ऊर्जा रस चूर्ण

वैवाहिक जीवन के उन पलो के चरम सुख की प्राप्ति होना बहुत ही आनंददायक होता है। लेकिन आज के आधुनिक युग में काम का बोझ, एक-दूसरे से आगे निकलने की होड़, मानसिक तनाव, विषाद, नशे की लत, पश्चिमी सभ्यता को अपनाने की लालसा, अप्राकृतिक मैथुन, एलोपैथिक दवाईयों के दुष्परिणाम, खान-पान में अनिमियता बरतना, दूषित वातावरण और बढ़ती हुई कामवासना के कारण उम्र से पहले ही शारीरिक शक्ति की कमी से पीड़ित होते जा रहे हैं। कामशक्ति की कमी से ग्रस्त मरीजो की संख्या दिन पर दिन बढ़ती ही जा रही है। इसिलए हम लाए हे ऊर्जारस चूर्ण जो आपके वैवाहिक जीवन को खुशिओ से भर देगा !

ऊर्जारस चूर्ण ऊर्जा एवं शक्ति का दूसरा नाम है। प्राचीन काल में लोग इसका सेवन मुख्य रूप से कमज़ोरी को दूर भगाने और जवान रहने के लिए करते थे। यह कोशिकाओं को पुनर्जीवित कर बुढ़ापे और शारीरिक कमज़ोरी को दूर रखता है और शरीर को यौवन और फुर्ती से भर देता है।

यह पुरुषो में यौन शक्ति को बढ़ावा देकर योन क्रिया को और भी आनंदित बना देता है। कामरस चूर्ण एक बहुत ही उत्तम यौन टॉनिक है। दुनिया की सबसे प्राचीन मानव यौन व्यवहार साहित्य – “काम सूत्रा” में भी इसका उल्लेख किया गया है। यह यौन इच्छा और क्षमता को बढ़ाता है और यौन संबंधित रोगों को दूर रखता है।

ऊर्जारस चूर्ण किसके लिये हे ?

  • शरीर अंगका आकार आदि सामान्य होने के बावजूद भी यौनक्रिया की इच्छा ही न होना जिस कारण पत्नी को संतुष्ट ना करपाना
  • यौनक्रिया करते-करते बीच में ही उत्तेजना समाप्त होकर अंग का बिना द्रव्य  निकले ही ढीला पड़ जाना और पत्नी का असंतुष्ट रह जाना
  • यौनक्रिया शुरू करते ही द्रव्यनिकल जाना और पत्नी के सामने शर्मिंदा होना पड़े
  • एक बार यदि यौनक्रिया कर लिया तो कई-कई दिनों तक अंग में यौनक्रिया करने लायक उत्तेजना का ही न आना जिस कारण यदि पत्नी कम उम्र है तो अकारण काम का बहाना करना पड़ता है
  • द्रव्यमें शु*क्राणुओं की कमी, द्रव्य का पानी की तरह पतला होना
  • यौनक्रियाके बाद भयंकर कमजोरी महसूस होना जैसे बरसों से बीमार हों
  • अंग में यौनक्रिया करने लायक कठोरता का न आना और इच्छा होने पर भी थोड़ा सा उत्तेजित होकर पिलपिला बना रहना
  • जवानी शुरू होते ही हस्तक्रिया करके द्रव्य  का सत्यानाश करा और अंग को भी बीमार बना डाला है
  • यौनक्रिया के दौरान दम फूलने लगना जैसे अस्थमा का दौरा पड़ गया हो
 

ऐसी तमाम समस्याएं हैं जिनके कारण वैवाहिक जीवन का सत्यानाश होता रहता है और कई बार तो साथी के कदम बहक जाने से परिवार तक टूट जाते हैं। ऐसे में चाहिये कि शरीर का भली प्रकार पोषण करके शक्ति प्रदान करने वाली औषधि ऊर्जारस चूर्ण आपके पास हों जो आपके वैवाहिक जीवन को स्वर्ग जैसा सुन्दर बना दे !

ऊर्जारस चूर्ण में कोनसी जड़ी-बूटियां हे ?

शिलाजीत, सफेद मूसली, गोखरू, असगन्ध, कौंच के बीज ,मुलहठी, खिंरेटी और गंगरेन की छाल, तुलसी के बीज ,काली मूसली के बीज, विधारा, मकरध्वज, वंग भस्म, लौह भस्म, पारा भस्म, स्वर्ण भस्म, नाग भस्म, अभ्रक भस्म, वंग भस्म

ऊर्जारस चूर्ण कैसे काम करता है? (HOW DOES IT WORK)

ऊर्जारस चूर्ण एक शक्तिवर्धक जड़ी बूटी है जो कि पुरुषो के शरीर की क्षमता को बढ़ाने के लिये प्रयोग की जाती है। ऊर्जारस चूर्ण में ऐसे रसायन होते हैं जो शरीर पर असर करते हैं। कामरस चूर्ण में एंटी-इन्फ्लैमटोरी जैसे गुण हैं जो यौन क्षमता को बढा कर शरीर में शक्ति भरते हे यह शरीर में खून के संचालन को तेज करते है और टेस्टोस्टेरोन लेवल बढाता हे टेस्टोस्टेरान एक मेल हार्मोन होता है जो योन क्षमता से संबन्धित होता है।

ऊर्जारस चूर्ण टेस्टोस्टेरोन लेवल को बढ़ा कर यौन इच्छा की कमी को पूरी करती है। जिससे शरीर एक्टिव बना रहता है आपका मूड भी अच्छा बनता हे इसी के साथ ऊर्जारस चूर्ण आपको वो स्टैमिना देता हे जो आपने कभी महसूस नहीं किया होगा , ये आपके अंग को मजबूत मोटा तगड़ा बनाकर द्रव्य को भी बहुत घाड़ा बनाता हे और यौनक्रिया के समय को पहले से कही गुना बड़ा देता हे जिस से आपके साथी को भरपूर आनंद मिल सके !

Available for All Ages 2 Months Course

PRICE- Rs. 2000/- for course (all over india cash on delivery available)

$40 + Shipping Charges for Oversea.

मंगवाने के लिए निचे लिखा फॉर्म भरे